Disclaimer: "A Humble Notice to Mahavir Mandir Devotees. It is been found that there are some fraudulent unauthorized websites and facebook pages which are using Mahavir Mandir’s name and collecting donations. Shree Mahavir Sthan Nyas Samiti do not have any relation with such fraudulent sites or organizations. Shree Mahavir Sthan Nyas Samiti Official websites are: http://www.mahavirmandirpatna.org ,  :https://www.mahavirmandir.org ,  :http://www.viraatramayanmandir.net ,  and none other." Official facebook page is: “Mahavir Mandir Patna”: https://www.facebook.com/officialmahavirmandir

Dharmayan vol. 83

धर्मायण अंक संख्या 83, वैशाख-आश्विन 2071, अप्रैल-सितम्बर 2014 ई.
  • (Title Code- BIHHIN00719),
  • धार्मिक, सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय चेतना की पत्रिका,
  • मूल्य : पन्द्रह रुपये
  • प्रधान सम्पादक  भवनाथ झा
  • सहायक सम्पादक – श्री सुरेशचन्द्र मिश्र
  • पत्राचार : महावीर मन्दिर, पटना रेलवे जंक्शन के सामने पटना- 800001, बिहार
  • फोन: 0612-2223798
  • मोबाइल: 9334468400,
  • E-mail: mahavirmandir@gmail.com
  • Web:www.mahavirmandirpatna.org,
  • www.m.mahavirmandirpatna.org
  • पत्रिका में प्रकाशित विचार लेखक के हैं। इनसे सम्पादक की सहमति आवश्यक नहीं है। हम प्रबुद्ध रचनाकारों की अप्रकाशित, मौलिक एवं शोधपरक रचनाओं का स्वागत करते हैं। रचनाकारों से निवेदन है कि सन्दर्भ-संकेत अवश्य दें।

निःशुल्क डाउनलोड करें। स्वयं पढें तथा दूसरे को भी पढायें। प्रकाशित प्रति प्राप्त करने हेतु अपना पता ईमेल करें। Email: mahavirmandir@gmail.com

Dharmayan-vol.-83

विषय-सूची

  1. (सम्पादकीय आलेख) शारदा-तिलक में रामोपासना का स्वरूप— पं. भवनाथ झा
  2. मगध-क्षेत्र में सूर्य-उपासना की प्राचीनता— पं. सुरेशचन्द्र मिश्र
  3. बिहार के पर्यटन विकास में हिन्दू-विरासत की भूमिका— आचार्य किशोर कुणाल 
  4. जयशंकर प्रसाद की कामायनी के श्रद्धा-मनु एवं प्राकृतिक सौन्दर्य का वर्णन— प्रो०(डॉ०)अशोक कुमार ‘अंशुमाली’
  5. ‘विनय-पत्रिका’ की हरि-शंकरी— डॉ. (प्रो.) राजेश्वर नारायण सिन्हा 
  6. राजर्षि अम्बरीष एवं दुर्वासा की कथा— डॉ. जयनन्दन पाण्डेय
  7. “तुलसी-साहित्य पर संस्कृत के अनार्ष प्रबन्धों की छाया” एक दृष्टि— डा. आलोक कुमार
  8. सामाजिक सद्भाव का दृष्टान्त : सिमरी का महावीरी झण्डा— डा. लक्ष्मीकान्त मुकुल
  9. व्यावहारिक वेदान्त के प्रतिष्ठाताः स्वामी विवेकानन्द— डा० भुवनेश्वर प्रसाद गुरुमैता
  10. ‘रामलला नहछू’ का काव्य-सौन्दर्य— श्री युगल किशोर प्रसाद 
  11. धर्म, संस्कृति, सम्प्रदाय और लोक-जीवन— डा. विनय कुमार सिंह
  12. मन्दिर समाचार परिक्रमा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *